निदेषक का संदेष

मैं इस वेबसाइट के आगन्तुकों का स्वागत करता हूं । सी एस आई आर - राष्ट्रीय भौतिक प्रयोगशाला ( एन पी एल ) को संसदीय अधिनियम के द्वारा भारत के राष्ट्रीय मापन संस्थान' ( एन एम आई ) का दर्जा प्रदान किया गया है तथा यह राष्ट्र की आवश्यकताओं के अनुरूप मापन के प्रचार - प्रसार के दायित्व का निर्वहन करने वाला ‘ राष्ट्रीय मानकों' का संरक्षक है । सी एस आई आर - एन पी एल भारतीय मानक समय ( आई एस टी ) का अनुरक्षण करता है । भारतीय विज्ञान एवं उद्योग के विकास इंजन के सुचारू संचालन हेतु सटीक एवं परिशुद्ध मापन अत्यावश्यक है क्योंकि यह अव्यवस्था को दूर कर आवि ष्का रों का मार्ग प्रशस्त करता है , जिसके परिणामस्वरूप अमूल्य जीवन की रक्षा , संसाधनों एवं समय की बचत होती है ।

सी एस आई आर - एन पी एल के लक्ष्य इस प्रकार हैं :-

i) अन्तर राष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृत भारत के मापन मानकों का विकास करना तथा भारत की समृद्धि एवं जीवन की गुणव त्ता को बेहतर बनाने वाले उद्योग , सरकार , सामरिक तथा शैक्षणिक समुदाय में मापन क्षमताओं का प्रचार - प्रसार करना ;

ⅱ ) भावी क्वांटम मानकों तथा नई प्रौद्योगिकियों को स्थापित करने के उद्देश्य से बहु - वि ष यक अनुसंधान तथा विकास कार्य करना ताकि भारत अन्तर राष्ट्रीय मापन प्रयोगशालाओं के समकक्ष बना रहे

ⅲ ) उदीयमान भारत की निरंतर बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए ‘मेक इन इंडिया' कार्यक्रम के तहत परि ष्कृत विश्लेष णात्मक उपकरणों का विकास ( अर्थात् आयातित उपकरणों का स्थानापन्न ) करना ; तथा

ⅳ ) ‘ कुशल भारत' (Skill India) कार्यक्रम के तहत मापन क्षेत्रों में युवा - वैज्ञानिकों एवं उद्यमियों को प्रशिक्षण प्रदान करना ।

 

सी एस आई आर - एन पी एल के ( विजन ) उद्देश्य इस प्रकार है :-

 

ⅰ ) वर्तमान में देश में उ पलब्ध ”सौर सेल” तथा ”बायोमेडिकल उपकरणों” की वर्तमान शीर्ष अंशांकन क्षमताओं में वृद्धि एवं विस्तार कर देश की आवश्यकताओं को पूर्ण करने हेतु मापन में प्रमुख स्थान प्राप्त करना । पर्यावरणीय गैसों हेतु नवीन अंशांकन क्षमताएं स्थापित की जाएगी । स्वच्छ वातावरण के लिए प्रदू ष कों ( विषैली गैसें तथा पदार्थ कण ) का सटीक मापन आवश्यक है तथा फिलहाल , इन प्रदू ष कों के लिए देश में कोई शीर्ष अंशांकन प्रयोगशाला नहीं है । इसके अतिरिक्त , द्रुत - संप्रे ष ण से नौ संचालन तक विभिन्न क्षेत्रों में परिवर्तनकारी अनुप्रयोगों के लिए क्वांटम मानकों हेतु अनुसंधान एवं विकास केन्द्र स्थापित किए जाएंगे , जोकि जीवन स्तर के स मु न्नयन तथा नवीन व्यवसायों के निर्माण की कुं जी होंगे ।

ⅱ ) सी एस आई आर - एन पी एल , अंशांकित परि ष्कृत उपकरणों के विकास के लिए एक राष्ट्रीय केन्द्र ( नेशनल हब ) की स्थापना करेगा । देश अपनी आवश्यकताओं को पूर्ण करने के लिए लगभग समस्त परि ष्कृत विश्लेष णात्मक तथा बायोमेडिकल उपकरणों का आयात करता है तथा यह आवश्यकता निरंतर बढ़ने वाली है । कोई भी राष्ट्र आत्म - निर्भर नहीं बन सकता , जब तक की वह इन उपकरणों को अपने देश में तैयार न करें । अतः सटीक एवं परिशुद्ध मापनों में सी एस आई आर - एन पी एल की क्षमता के आधार पर यह कहा गया कि इन उपकरणों को ‘मेक एन इंडिया' कार्यक्रम के तहत तैयार करने के लिए एक कार्यक्रम शुरू किया जाएगा , जिसमें शुरूआती दौर में उपकरणों की तकनीकी जानकारी अन्त रराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कम्पनियों से हासिल की जाएगी ।

ⅲ ) मापन के क्षेत्र में कौशल - विकास हेतु “उत्कृ ष्ट ता केन्द्र“ का निर्माण : देश में विज्ञान संबंधी तथा उद्योगों के लिए कुशल श्रमशक्ति तैयार करने के लिए , सी एस आई आर - एन पी एल मापन तथा अंशांकन के क्षेत्र में इसके कौशल विकास कार्यक्रमों को और उन्नत करेगा । साथ ही , हम शीघ्र ही अनुसंधान आउटरीच कार्यक्रम आरंभ करने वाले हैं , जिसके तहत सी एस आई आर - एन पी एल में उपलब्ध नवोन्नत सुविधाओं को अनुसंधान अध्येताओं तथा उद्योगों के लिए उपलब्ध कराया जाएगा । आपके रचनात्मक सुझाव तथा भागीदारी के माध्यम से सक्रिय सहयोग आमंत्रित है ताकि सी एस आई आर - एन पी एल के लक्ष्यों (visions) को प्राप्त किया जा सके ।

संपर्क जानकारी